Ads Top

Shayari For Lovers | Shayari In Lovers

Shayari For Lovers | Shayari In Lovers : Aaj ke is blog me jo shayri aap log padhne wale hai vo shayari specially for lovers hai..... Vo sabhi log jo ashiqmizaj hai or jinme shayari chupi hui hai yeh blog unke lie bht hi special hai..... Ummid hai aap logo ko ye shayari pasnd ayegi....

Also Read : Love Shayari 2017
Also Read : Latest Love Shayari For Lovers

Shayari For Lovers
 

Chupake se aakar is dil mein utar jaate ho,
Saanson mein meee khushabu ban ke bikhar jate ho,
kuchh yoon chala hai tere ishk ka jaadu,
Sote-jaagate tum hi tum nazar aate ho.
चुपके से आकर इस दिल में उतर जाते हो,
सांसों में मेरी खुशबु बन के बिखर जाते हो,
कुछ यूँ चला है तेरे ‘इश्क’ का जादू,
सोते-जागते तुम ही तुम नज़र आते हो।

Tujhe dekhe bina teri tasvir bana sakta hoon,
Tujhse mile bina tera haal bata sakta hoon,
Hai meri dosti mein itna dum,
Apni aankh ka aansoo teri aankh se gira sakta hoon.
​तुझे देखे बिना तेरी तस्वीर बना सकता हूँ,
तुझसे मिले बिना तेरा हाल बता सकता हूँ,
है मेरी दोस्ती में इतना दम,
तेरी आँख का आँसू आपनी आँख से गिरा सकता हूँ।

Tujhe chaha bhi to ijahaar na kar sake,
Kat gai umar kisi se pyaar na kar sake,
Tune maanga bhi to apani judai maangi,
Aur ham the ki inkaar na kar sake.
तुझे चाहा भी तो इजहार न कर सके,
कट गई उम्र किसी से प्यार न कर सके,
तुने माँगा भी तो अपनी जुदाई मांगी,
और हम थे की इंकार न कर सके।

Jab se dekha hai teri aankhon mein jhank kar,
koi bhi aaina acha nahin lagta,
teri mohabbat mein aise hue hai deewane,
tumhe koi aur dekhe toh acha nahin lagta.
जब से देखा है तेरी आँखों मे झाक कर,
कोई भी आईना अच्छा नहीं लगता,
तेरी मोहब्बत मे ऐसे हुए हैं दीवानें,
तुम्हें कोई और देखें अच्छा नहीं लगता।

Ye Dil Kisi ko pana chahta hai,
Aur ushe apna bnana chahta hai..
Khud to chahta hai khusi se dhadkna,
Uska dil bhi dhadkana chahta hai..
Jo hasi kho gayi thi barso pehle kahin,
Fir ushe labo pe sajana chahta hai..
Tayyar hai pyar me sath chalne ke liye,
Uske har gum ko apnana chahta hai..
Mohabbat to ho hi gayi hai ab to, pr,
Ab ushi se hi chhipana chahta hai..
Ye dil ab kisi ko pana chahta hai,
Aur ushe sirf apna bnana chahta hai..
ये दिल किसी को पाना चाहता है,
और उसे अपना बनाना चाहता है।
खुद तो चाहता है ख़ुशी से धड़कना,
उसका दिल भी धड़काना चाहता है।
जो हँसी खो गई थी बरसों पहले कहीं,
फिर उसे लबों पर सजाना चाहता है।
तैयार है प्यार में साथ चलने के लिए,
उसके हर गम को अपनाना चाहता है।
मोहब्बत तो हो ही गई है अब तो.. पर,
अब उसी से ही ये छिपाना चाहता है।
ये दिल अब किसी को पाना चाहता है,
और उसे सिर्फ अपना बनाना चाहता है।।

Jab khamosh aankho se baat hoti hai.
Aise hi mohabbat ki shurwat hoti hai.
Tumhare hi khyalo mein khoye rehte hai.
Pata nahi kab din kab raat hoti hai ?
जब खामोश आँखो से बात होती है
ऐसे ही मोहब्बत की शुरुआत होती है
तुम्हारे ही ख़यालो में खोए रहते हैं
पता नही कब दिन और कब रात होती है

Tere libas se mohabbat ki hai,
tere ehsas se mohabbat ki hai,
tu mere paas nahi fir bhi,
maine teri yaad se mohabbat ki hai,
kabhi tune bhi mujhe yaad kiya hoga,
maine un lamho se mohabbat ki hai,
jinme ho sirf teri aur meri baatein,
maine un alfaaz se mohabbat ki hai,
jo mahkate ho teri mohabbat se,
maine un jazbat se mohabbat ki hai,
aaoge kab wapis meri jaan,
maine tere intezaar se mohabbat ki hai!
तेरे लिबास से मोहब्बत की है,
तेरे एहसास से मोहब्बत की है,
तू मेरे पास नहीं फिर भी,
मैंने तेरी याद से मोहब्बत की है,
कभी तू ने भी मुझे याद किया होगाी,
मैंने उन लम्हों से मोहब्बत की है,
जिन में हो सिर्फ तेरी और मेरी बातें,
मैंने उन अल्फाज से मोहब्बत की है,
जो महकते हो तेरी मोहब्बत से,
मैंने उन जज्बात से मोहब्बत की है,
तुझ से मिलना तो अब एक ख्वाब लगता है,
इसलिए मैंने तेरे इंतजार से मोहब्बत की है.

Ham juda hue the phir milane ke liye,
zindagi ki raahon mein sang chalane ke liye,
tere pyaar ki kashish dil mein basi hai kuchh is qadar,
dua hai tera sath mile zara sambhalane ke liye
हम जुदा हुए थे फिर मिलने के लिये,
ज़िंदगी की राहों में संग चलने के लिये,
तेरे प्यार की कशिश दिल में बसी है कुछ ईस क़दर,
दुआ है तेरा साथ मिले ज़रा संभलने के लिये।

Hasrat hai sirf tumhe pane ki,
aur koi khawahish nahi is dewane ki,
shikwa mujhe tumse nahi khuda se hai,
kya zarurat thi tumhe itna khubsurat banane ki?
हसरत है सिर्फ तुम्हें पाने की,
और कोई ख्वाहिश नहीं इस दीवाने की,
शिकवा मुझे तुमसे नहीं खुदा से है,
क्या ज़रूरत थी, तुम्हें इतना खूबसूरत बनाने की!

Jab jab yaad karogi apani tanhaiyo ko,
ek jalata charaag sa nazar aauga main
raah se rahaguzar ban ke bhi gujar jaogi,
ek mil ka patthar sa khada nazar aauga main..
जब जब याद करोगी अपनी तन्हाईयो को,
एक जलता चराग सा नज़र आऊगा मैं
राह से रहगुज़र बन के भी गुजर जाओगी,
एक मिल का पत्थर सा खड़ा नज़र आऊगा मैं..





No comments:

Powered by Blogger.