Ads Top

All New Friendship Shayari 2017

FriendShip Shayari


#एक जैसे दोस्त #सारे नही होते,
कुछ #हमारे होकर भी #हमारे नहीं होते,
# आपसे दोस्ती करने के बाद #महसूस हुआ,
कौन #कहता है ‘तारे ज़मीं पर’ #नहीं होते.
Ek #jaise dost sare #nahi hote,
Kuch #hamare hokar bhi #hamare nahi hote,
#Aapse dosti karne ke #baad mehsus hua,
Kaun #kehta hai ‘#taare zamin par’ #nahi hote.

#इस कदर हम उनकी #मुहब्बत में खो गए,
कि एक #नज़र देखा और बस #उन्हीं के हम हो गए,
आँख #खुली तो अँधेरा था देखा एक #सपना था,
आँख बंद की #और उन्हीं सपनो में #फिर सो गए!
es #kadar hum unki #mohabbat mein kho gaye,
ki ek #nazar dekha aur bas #unhi k ho gaye,
#ankh khuli to andhera tha, #dekha ek sapna tha,
aankh band #ki aur unhi sapno me #phir kho gaye.

No comments:

Powered by Blogger.