Ads Top

Sad Shayari | Log har modh par

Sad Shayari

लोग हर मोड़ पर रुक रुक के सम्भलते क्यों है ,
इतना डरते है तो फिर घर से निकलते क्यों है । 

Log har modh par ruk ruk ke sambhalte kyu hai
Itna darte hai to phir ghr se nikalte kyu hai

No comments:

Powered by Blogger.